नगर निगम तथा रेलवे की जमीन पर काट दिये 200 प्लाट

200 plot cut on land of municipal corporation and railway

जब जानकारी लगी तो लोगों ने अपने रूपये वापस मांगे-शिकायत की तो जान से मारने की धमकी दी-दोषियों पर कार्रवाई नहीं हुई तो परिवार ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांगी इच्छा मृत्यु
उज्जैन। आगर रोड़ स्थित नाका नंबर 5 पर भूमाफियाओं द्वारा रेलवे तथा नगर निगम की जमीन पर कॉलोनी काट दी तथा करीब 200 लोगों को फर्जी रूप से रजिस्ट्री कराकर प्लाट बेच दिये। प्लाट काटने के बाद जब लोगों को जानकारी लगी और अपनी राशि भूमाफियाओं से वापस मांगी तो रूपये लौटाने की बजाय जान से मारने की धमकी दी। थाने में शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 420 कर बेचे गए प्लाट की धोखाधड़ी में फंसे एक परिवार ने परेशान होकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इच्छामृत्यु की मांग की है। अब्दुल सादिक पिता अब्दुल हाफिज निवासी कोट मोहल्ला वर्तमान में मां दुर्गा कॉलोनी आगर रोड़ पर रह रहा है। अब्दुल के अनुसार नाका नंबर 5 पर रेलवे की जमीन पर सतीश भाटी, संदीप भाटी निवासी नाका नंबर 5 ने रेलवे की जमीन पर 200 से अधिक प्लॉट बैचे दिये। इनमें एक प्लाट मैने भी खरीदा। संदीप तथा सतीश ने 420 करते हुए प्लॉट की रजिस्ट्रिया भी कर दी। वहीं झुग्गी-झोपड़ी वालों को 2-2 लाख में सरकारी जमीन पर प्लाट काटकर बैच दिये। नगर निगम एवं रेलवे की जमीन की जानकारी लगने के बाद शिकायत की तो सतीश भाटी उनका पुत्र संदीप भाटी, कुलदीप भाटी के साथ 10-15 लोगों ने हथियार से लैस होकर पहुंचे तथा धमकी दी कि तीन दिन में एफआईआर, अपने आवेदन और प्लाट छोड़कर नहीं गए तो पूरे परिवार को जान से मार देंगे। अब्दुल ने मुख्यमंत्री, कमिश्नर, कलेक्टर, एसपी को शिकायत कर सतीश भाटी द्वारा बेचे गए प्लॉट की राशि दिलवाने की मांग की तथा वहां पर चल रहे अतिक्रमण एवं भूमाफिया पर लगाम लगाने की मांग की। अब्दुल के अनुसार मेरा परिवार घर से बाहर नहीं निकल पा रहा और बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे, सांप्रदायिक विवाद का भय बना रहता है। अब्दुल ने आरोप लगाया कि चिमनगंज थाने में मैने एफआईआर दर्ज कराई किंतु अधिकारियों ने एकपक्षीय एफआईआर दर्ज कर पैसा लेनदेन कर हल्की कार्यवाही कर दी। पत्र में अब्दुल ने कहा कि कार्रवाई करें अन्यथा मुझे मेरे 9 बच्चों के साथ इच्छा मृत्यु प्रदान करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA