31 उपवास के तपस्वी का निकला वरघोड़ा

31 turned out to be fasting of fasting

उज्जैन। जैन समाज के चतुर्मास के अंतर्गत संगीता अरविन्द कोठारी की निरंतर 31 उपवास की कठोर तपस्या मासक्षमण के अनुमोदनार्थ जैन समाज द्वारा भव्य वरघोड़ा निकाला गया।
गच्छाधिपति नित्यसेन सुरिश्वर एवं आचार्य जयरत्न सुरिश्वर की प्रेरणा एवं गच्छाधिपति दौलतसागर, आचार्य नन्दिवर्धन सागर, आचार्य हर्षसागर की निश्रा में हुई तपस्या के अनुमोदनार्थ आयोजित त्रिदिवसीय कार्यक्रम के अंतर्गत वीडी क्लॉथ मार्केट से सोमवार प्रातः 8.30 बजे त्रिआचार्य एवं साधु साध्वी भगवन्तों की निश्रा में समाजजन के साथ भव्य वरघोड़ा निकाला गया। जिसमें शहर के प्रमुख महिला एवं नवयुवक मंडल भक्ति करते हुए चल रहे थे। वरघोड़ा प्रमुख मार्गो से होता हुआ रंगमहल धर्मशाला पंहुचा जहाँ गुरु भगवन्तों के प्रवचन हुए। राकेश बनवट द्वारा सामूहिक गुरूवन्दना कराई, त्रिस्तुतिक श्रीसंघ अध्यक्ष ने स्वागत उदबोधन दिया एवं सभी ट्रस्टियों द्वारा कोठारी परिवार के सरदारमल, राजमल, अरवींद, संतोष एवं विजय का बहुमान किया गया। वीरेन्द्र गोलेचा ने बताया की तपस्वी द्वारा पिछले 31 दिनों से केवल गर्म जल के अलावा किसी भी चीज का सेवन नहीं किया गया। तपस्वी अनुमोदनार्थ आयोजित सभा का संचालन संजय कोठारी ने किया एवं सम्मान पत्र का वाचन मदनलाल रुणवाल ने किया। जिसमें तपस्वी के दीर्घायु जीवन के साथ आत्म कल्याण की ओर अग्रसर होने की कामना की गयी। संभवनाथ मंदिर से प्रमोद जैन एवं शांतिनाथ मंदिर से मनोज कोचर ने अभिनंदन उदबोधन दिया। आभार विजय कोठारी ने माना। कोठारी परिवार द्वारा सकल श्रीसंघ की साधर्मिक भक्ति का लाभ लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

CAPTCHA