पं. रितेश गुरू की हत्या करना चाहते थे आरोपी

logo mysitinews.com
पं. रितेश गुरू की हत्या करना चाहते थे आरोपी
अभा हिंदू महासभा ने एसपी को ज्ञापन सौंपकर गिरफ्तारी की मांग की-कहा धारा 307 तथा षड़यंत्र की धारा बढ़ाई जाए
उज्जैन। आगर रोड़ स्थित पत्तनेश्वर महादेव मंदिर पर स्थित अखिल भारत हिंदू महासभा के मुख्य कार्यालय पर महासभा के प्रांतीय महामंत्री रितेश गुरू व उनके छोटे भाई पंकज शर्मा पर ग्राम खिलचीपुर के अर्जुन आंजना, प्रभुलाल आंजना व रमेश आंजना द्वारा प्राणघातक हमले के विरोध में अभा हिंदू महासभा द्वारा बुधवार को एसपी के नाम ज्ञापन सौंपा गया।
महासभा के प्रांतीय प्रवक्ता मनीषसिंह चैहान के अनुसार राजेशगुरू त्यागी, आचार्य आशुतोष, बालकृष्णदास महाराज मौनी बाबा, रामदास महाराज, श्रुति बाबा, तराना पार्षद रितेश मूंदड़ा की उपस्थिति में एसपी के नाम सौंपे ज्ञापन में कहा कि पं. रितेश गुरू का हाथ तोड़ दिया व उनके सिर पर हत्या करने के इरादे से तलवार मारी तथा पंकज शर्मा पर भी जानलेवा हमला किया। आरोपियों द्वारा अवैध काॅलोनी काटते हुए यहां से अवैध रूप से मदरसे को रास्ता दिया जा रहा था जिसके संबंध में पं. रितेश गुरू ने विरोध दर्ज कराया था। पं. रितेश गुरू के विरोध को दबाने के लिए षड़यंत्रपूर्वक उक्त आरोपियों व इनके 10-15 साथियों ने प्राणघातक हमला कर दिया। उस समय मंदिर पर खिचड़ी प्रसादी वितरण समापन कार्यक्रम में हो रहा था। इसी दौरान यह हमला हुआ। यदि उस समय श्रध्दालु आदि न होते तो शायद आरोपी पं. रितेश गुरू व इनके भाई की हत्या कर देते। मनीषसिंह चैहान ने कहा कि यह पूरी सोची समझी व गहरी साजिश है जो कि पूरी तरह सांप्रदायिक मामला बनाया गया है जबकि ये अवैध काॅलोनी व अवैध रास्ता मदरसे को देने का मामला है। इस हेतु गोपनीय रूप से मदरसे पर बीती रात को मुस्लिम समाज के वरिष्ठों की बैठक हुई है इससे स्थिति और बिगड़ने का अंदेशा है। इस घटना की कायमी हो चुकी है लेकिन आरोपियों के धनबल और दबंगई के कारण पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 307 नहीं लगाई है। मनीषसिंह चैहान के साथ प्रांतीय उपाध्यक्ष नंदकिशोर पाटीदार, जिलाध्यक्ष कृष्णा मालवीय, प्रदेश सहसंगठन मंत्री संजय सिसौदिया, नगर अध्यक्ष शैलेन्द्र यादव ने एसपी से मांग की कि उक्त आरोपियों व इनके सहयोगियों के खिलाफ प्रकरण में षड़यंत्र की धारा 120बी व प्राणघातक हमले की धारा 307 भादवि भी संयोजित की जाकर इनकी तत्काल गिरफ्तार किया जाए ताकि ये लोग फरारी के दौरान पीड़ित पक्ष व उनके परिजनों पर दबाव न बना सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA