22 वर्षों से मां कालिका की प्रतिमा बना रहे

Mother Kalika's statue remained for 22 years
वर्ष में सिर्फ एक मां कालिका की प्रतिमा निर्माण वह भी कर देते निःशुल्क भेंट-प्रतिमा निर्माण में नौ नदियों का जल, नौ तीर्थों की मिट्टी, महाकाल की भस्मी और जूट का उपयोग
उज्जैन। नौ नदियों का जल, नौ तीर्थ स्थानों की मिट्टी, बाबा महाकाल की भस्मी एवं जूट से पिछले 22 सालों से प्रहलादनाथ महाराज (भोले बाबा) मां कालिका की प्रतिमा बना रहे हैं। बाबा के द्वारा वर्ष में सिर्फ एक ही प्रतिमा बनाई जाती है और वह भी मां जय दुर्गा जागरण समिति को निःशुल्क भेंट करते हैं। 
मां जयदुर्गा जागरण समिति के उपाध्यक्ष धीरेन्द्रसिंह कुशवाह ने बताया कि इस वर्ष बाबा के परिवार ने तीन क्विंटल वजनी मां कालिका की प्रतिमा बनाकर भेंट की। बिना फर्मे के उपयोग के बनाई गई इस प्रतिमा के निर्माण में 20 दिन लगे। पिछले 22 वर्षों से प्रहलादनाथ महाराज (भोले बाबा) नवरात्रि पर अपने परिवार के साथ माताजी की प्रतिमा बनाते आ रहे हैं और प्रतिमा को मां जयदुर्गा जागरण समिति को निःशुल्क भेंट करते हैं। अशोकनगर में समिति द्वारा बनाये मंच पर मां कालिका की प्रतिमा विराजित की गई है। समिति संयोजक ओम भारद्वाज, अध्यक्ष आनंद बागोरिया एवं अन्य पदाधिकारियों द्वारा प्रतिमा बनाने वाले प्रहलाद दास महाराज व उनके परिवारजनों का प्रतिवर्ष कार्यक्रम के दौरान सम्मान किया जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *