हनी ट्रैप मामले से पत्रकारों की मध्यस्थता नहीं इंदौर की एस एस पी रुचि वर्धन मिश्रा ने किया साफ इनकार

Mysitinews.com

मध्य प्रदेश के बहुचर्चित हनी ट्रैप मामले से पत्रकारों की मध्यस्थता नहीं इंदौर की एस एस पी रुचि वर्धन मिश्रा ने किया साफ इनकार

मध्यप्रदेश में चर्चित हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में लगातार हो रही गिरफ्तारी और नए खुलासों के बाद कुछ लोगों ने इस मामले में कुछ पत्रकारों का जबरन नाम लेने का और उन्हें फंसाने का षडयंत्र रच रखा है दिल्ली और भोपाल के कुछ तथाकथित अखबारों में भ्रम फैलाया जा रहा है की दो पत्रकार भी इसमें शामिल है आज इंदौर में हुई एक प्रेस वार्ता में इंदौर की एसएसपी रुचि वर्धन मिश्रा से एक पत्रकार ने सवाल पूछा कि दो पत्रकार भी इस मामले में शामिल है तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया और कहा कि इस तरह के कोई सबूत सामने नहीं आए हैं एएसपी के इंकार से यह साफ माना जाए कि कुछ अवांछित तत्व पत्रकारिता के पेशे को बदनाम करना चाहते हैं।

मध्य प्रदेश के चर्चित हाई प्रोफाइल हनीट्रैप मामले में अब दिल्ली के एक वकील का भी नाम आ रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरती-श्वेता और छात्रा ने हरभजन सिंह को ब्लैकमैल करने के लिए दिल्ली में एक वकील से मुलाकात कर मदद मांगी थी। पर वकील ने ऐसा करने से साफ इंकार करते हुए कहा था कि वे ब्लैकमेल में उनकी कोई मदद नहीं कर सकत है। अगर केस करना चाहते हैं, तो वे ये काम कर सकता है।
पहले कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दिल्ली के पत्रकार का जिक्र हुआ था, पर बताया जा रहा है कि पुलिस जांच में अब वकील का नाम आया है। पुलिस दस्तावेजों में पत्रकार के नाम का जिक्र नहीं है।
वैसे इस मसले पर आज जी एमपी/छत्तीसगढ़ ने भी आरोपी बरखा भटनकार के हज्बेंड से बात की है। उनके पति अमित सोनी का कहना है कि श्वेता विजय जैन ने कई अधिकारियों को ब्लैकमेल किया। श्वेता के अधिकारियों के साथ झगड़े के चलते ये मामला खुला है।
वहीं पुलिस ने श्वेता विजय जैन के घर और ऑफिस से इलेक्ट्रॉनिक गजेट्स और सरकारी सील मिली है। जमीनी सौदों के भी कागजात मिले है। सरकारी सील के साथ फर्जी सिग्नेचर का प्रयोग कर कई तरह की धांधलिया करने का मामला भी सामने आया है।
इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब एक नगर निगम अधिकारी ने एक महिला के खिलाफ ब्लैकमेलिंग का मामला दर्ज कराते हुए कहा कि दोस्ती की आड़ में एक महिला ने उसकी कुछ रिकॉर्डिंग्स कर ली है और अब वे उसे ब्लैकमेल करते हुए तीन करोड़ रुपये डिमांड कर रही है।