प्रेम छाया और मस्तराम अखाडा पार्षद का क्या रोल….

Prem chya

उज्जैन। प्रेम छाया से एटलस चौराहा तक बनने वाले नए मार्ग को लेकर क्षेत्रीय पार्षद द्वारा एटलस चौराहा तक बनने वाले मार्ग को लेकर बीजेपी पार्षद द्वारा कार्य किया जा रहा आखिर इस मार्ग को बनाने से किसका भला होने वाला है और उस भलाई के पीछे किसका आर्थिक लाभ है यह सब कहानी तब सामने आई जब माय सिटी न्यूज़ की टीम मस्तराम अखाडा पहुंची ,मस्तराम अखाड़े के स्वर्गीय महंत राधेश्याम दास महाराज द्वारा एक घोषणा पत्र लिखा गया। जिसमें उन्होंने लिखा की मस्तराम अखाड़े की भूमि का सौदा उन्होंने बिल्डर आनन्द भाया से कर दिया है इस सोदे में खेड़ापति हनुमान जी मंदिर से लगी मस्तराम अखाड़े की सारी जमीन का सौदा उन्होंने किया है वर्तमान में अर्पित दास इस वसीयत के मालिक हैं, महंत की मृत्यु के बाद अब अर्पित दास सारे देखरेख कर रहे हैं। बताया जा रहा है की बिल्डर आनंद भाया मस्तराम अखाड़े की जमीन पर मल्टी का निर्माण करने वाले हैं और इस काम में भाजपा के एक पूर्व मंडल अध्यक्ष ने बिना किसी बाधा के मल्टी निर्माण करवाने की जिम्मेदारी ली है, क्षेत्रीय रहवासियों के अनुसार प्रेम छाया से जो मार्ग निकलेगा उस मार्ग के फ्रंट में मस्तराम अखाड़े कि वह जमीन आएगी जहां मल्टी का निर्माण होना है ऐसे में क्षेत्रीय पार्षद द्वारा नगर निगम में इन दिनों केवल एक ही कार्य किया जा रहा है, वह है प्रेम छाया मार्ग के टेंडर को लगवाने काऔर अधिकारियों के समक्ष प्रेम छाया मार्ग क्यों जरूरी है यह बताना। प्रेम छाया मार्ग को एटलस चौराहे तक ले जाने में भाट गली गली के कई मकान प्रभावित होंगे जिनके मुआवजे का प्रबंध ना नगर निगम के पास है और ना क्षेत्रीय पार्षद के पास ऐसे में प्रेम छाया के नए मार्ग को एक कपोलकल्पित कहानी कहें तो बेहतर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *