किसानों को कम पानी की फसलों के लिए प्रेरित करें

Promote farmers for low water crops

जिला योजना समिति की बैठक में प्रभारी मंत्री ने दिए निर्देश

उज्जैन 21 सितम्बर। जिले में कम वर्षा की स्थिति को देखते हुए किसानों को कम पानी की फसलें (चना, सरसों, अलसी) आदि लेने को प्रेरित करें। इस सम्बन्ध में कृषि व सम्बन्धित विभाग किसानों को पूरी मदद करे। सिंचाई विभाग किसानों को बताए कि उन्हें सिंचाई के लिए कितना पानी मिलेगा। किसान गोष्ठी, सम्मेलन, उनके खेतों में भ्रमण आदि के माध्यम से उन्हें मार्गदर्शन व सलाह दी जाए।

प्रभारी मंत्री  भूपेन्द्रसिंह ने आज गुरूवार को मेला कार्यालय सभाकक्ष में सम्पन्न जिला योजना समिति सह जल उपयोगिता समिति की बैठक में अधिकारियों को ये निर्देश दिए। बैठक में विधायक  मोहन यादव, बहादुरसिंह चौहान,  अनिल फिरोजिया, दिलीपसिंह शेखावत,  मुकेश पण्ड्या, जिला पंचायत अध्यक्ष  महेश परमार, यूडीए अध्यक्ष  जगदीश अग्रवाल, महापौर  मीना जोनवाल, निगम अध्यक्ष  सोनू गेहलोत,  इकबालसिंह गांधी, एडीजी व्ही.मधुकुमार, कलेक्टर  संकेत भोंडवे, पुलिस अधीक्षक  सचिन अतुलकर आदि उपस्थित थे।

15 दिन में दें जानकारी

प्रभारी मंत्री ने निर्देश दिए कि कृषि, सिंचाई, राजस्व व उनसे सम्बन्धित विभाग आगामी 15 दिनों में किसानों को जानकारी दें कि उन्हें रबी में कौन-सी फसलें बोना चाहिए, उन्हें कितना पानी मिलेगा, कम पानी की फसलों के क्या लाभ हैं आदि। किसानों को इन फसलों के बीजों की उपलब्धता भी सुनिश्चित कराई जाए।

बोरी बंधान का कार्य अभियान के रूप में करें

प्रभारी मंत्री ने निर्देश दिए कि जिले में पानी रोकने के लिए बोरी बंधान का कार्य तुरन्त प्रारम्भ कर दिया जाए तथा अभियान के रूप में चलाया जाए। पानी रोकने के सभी प्रयास जिले में किए जाएं। बैठक में सीईओ जिला पंचायत  संदीप जीआर ने जिले में पानी रोकने के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। गत 17 दिसम्बर को जिले के प्रत्येक नदी/नाले में बोरी बंधान का कार्य प्रारम्भ कराया गया है। मंत्री ने कहा कि जिले में जहां कम वर्षा हुई है, वहां तुरन्त पर्याप्त रूप से बोरी बंधान कराएं, जिससे पानी बहने नहीं पाए। बताया गया कि जिले के तराना, महिदपुर एवं घट्टिया क्षेत्रों में अपेक्षाकृत कम वर्षा हुई है।

स्वच्छता के लिए नगर निगम

व आवासों के लिए जिला पंचायत को बधाई

बैठक में प्रभारी मंत्री ने स्वच्छता अभियान में अच्छे कार्य के लिए महापौर सहित पूरी नगर निगम की टीम को तथा प्रधानमंत्री आवास में उज्जैन जिले में अच्छी उपलब्धि के लिए जिला पंचायत को शाबाशी दी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने आजादी की तरह ही स्वच्छता को महत्वपूर्ण बताया है। हम उनके सपने को पूरा करना है, देश को पूर्णरूप से स्वच्छ बनाना है।

इस बार 16255 है. में सिंचाई का लक्ष्य

जल संसाधन विभाग के अधिकारी श्री मुकुल जैन ने बैठक में बताया कि इस वर्ष रबी में जिले में 16255 है. क्षेत्र में सिंचाई का लक्ष्य रखा गया है। गत वर्ष 26825 है. सिंचाई का लक्ष्य रखा गया था। जिले में 01 मध्यम, 47 लघु तालाब योजनाएं, 17 उद्वहन सिंचाई योजना तथा 37 बैराजों से सिंचाई होती है। इस वर्ष जिले में अभी तक 795.07 मिमी अर्थात 37.27 इंच वर्षा हुई है तथा जिले की कुल जल संग्रहण क्षमता 136.35 एमसीएम के स्थान पर 71.74 एमसीएम जल संग्रहीत हुआ है।

मुख्यमंत्री का धन्यवाद ज्ञापित किया गया

बैठक में प्रभारी मंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश में किसानों की 700 करोड़ रूपये की प्याज खरीदकर प्रदेश में ऐतिहासिक कार्य हुआ है। उज्जैन जिले में सर्वाधिक 100 करोड़ रूपये का किसानों का प्याज शासन द्वारा खरीदा गया। इसके लिए जिला योजना समिति में प्रस्ताव पारित करके मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान का धन्यवाद ज्ञापित किया गया। प्रभारी मंत्री ने भावान्तर योजना को भी किसानों के लिए अत्यन्त लाभकारी तथा अभूतपूर्व एवं अद्वितीय बताया। उन्होंने इस योजना का जिले में समुचित क्रियान्वयन किए जाने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

CAPTCHA