21 जून को सूर्य की किरणें लम्बवत होने के कारण परछाई शून्य हो जायेगी

Sun rays vertical on 21st June  Being shadowed will turn nil

उज्जैन । पृथ्वी के सूर्य के चारों ओर परिभ्रमण के कारण सूर्य 21 जून को उत्तरी गोलार्द्ध में कर्क रेखा पर लम्बवत होता है। कर्क रेखा की स्थिति 23 डिग्री 26 मिनिट उत्तरी अक्षांश पर है और 21 जून को सूर्य की क्रान्ति 23 डिग्री 26 मिनिट 5 सेकेण्ड उत्तर होगी। उज्जैन कर्क रेखा के नजदीक स्थित है। इसलिये 21 जून को दोपहर 12 बजकर 28 मिनिट पर सूर्य की किरणों लम्बवत होने के कारण परछाई शून्य हो जायेगी। यंत्र महल मार्ग शासकीय जीवाजी वेधशाला में इस खगोलीय घटना को शंकु यंत्र के माध्यम से प्रत्यक्ष देखा जा सकता है। हमें 12 बजकर 28 मिनिट पर शंकु की परछाई नहीं दिखेगी।

दिन धीरे-धीरे छोटे होंगे

शासकीय जीवाजी वेधशाला के अधीक्षक डॉ.राजेन्द्र प्रकाश गुप्त ने यह जानकारी देते हुए बताया कि 21 जून को सूर्य अपने अधिकतम उत्तरी बिन्दु कर्क रेखा पर होने के कारण उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे बड़ा तथा रात्रि सबसे छोटी होती है। 21 जून के बाद दिन धीरे-धीरे छोटे होने लगेंगे और 23 सितम्बर को दिन-रात बराबर होंगे। 21 जून को उज्जैन में सूर्योदय प्रात: 5.42 पर तथा सूर्यास्त शाम 7.16 पर होगा। इस प्रकार दिन सबसे बड़ा 13 घंटे 34 मिनिट तथा रात्रि 10 घंटे 26 मिनिट की होगी। 21 जून के बाद सूर्य की दक्षिण की ओर गति प्रारम्भ हो जायेगी। इसे दक्षिणायन का प्रारम्भ कहते हैं। वेधशाला में इस खगोलीय घटना को दिखाने की व्यवस्था की गई है। धूप होने पर दोपहर 12 बजकर 28 मिनिट पर शंकु यंत्र के माध्यम से परछाई को गायब होते प्रत्यक्ष देख सकते हैं।