ये हैं दुनिया के अजीबो-गरीब मंदिर, जहां किसी देवी-देवता को नहीं पूजा जाता photo देखे…

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.द्रौपदी मंदिर महाभारत की सबसे प्रमुख द्रौपदी का भी मंदिर हैं। जी हीं, बेंगलुरु में एक बहुत ही प्राचीन मंदिर स्थापित है। यहां की लोक मान्यता के अनुसार ये मंदिर लगभग 800 साल पुराना है, जिसका नाम धर्माया स्वामी टेंपल है।

 

 

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.गांधारी मंदिर कौरवों की मां गांधारी से तो सब रू-ब-रू ही हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि भारत के मैसूर में गांधारी का एक बहुत ही प्राचीन मंदिर स्थित है।

 

 

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.हिडिंबा मंदिर हिमाचल प्रदेश के मनाली जिले में हिडिंबा मंदिर स्थित है। बता दें कि यहां पर आजके तारीख पर खून का प्रसाद चढ़ता है। इसके अलावा उत्तरकाशी में महाभारत के मुख्य पात्र कर्ण का मंदिर स्थित है।

 

 

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.जटायु मंदिर बता दें नासिक से 65 कि.मी दूर तकैट नामक जगह पर जटायु मंदिर है। इसके बारे में कहा जाता है कि यहां जटायु ने अपनी अंतिम सांस ली थी, जिसके बाद भगवान राम ने यहीं उनका सारा क्रिया कर्म किया था। बता दें कि इस मंदिर के पास एक नदी भी है जिसका स्तर पूरे साल भर एक समान रहता है।

 

 

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.उत्तरकाशी में महाभारत के मुख्य पात्र कर्ण का मंदिर स्थित है।

 

 

 

 

 

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.रावण मंदिर आपको जानकर हैरानी होगी कि मध्यप्रदेश में रावण ग्राम में रावणा नामक एक मंदिर है जहां रावण की पूजा की जाती है।

 

मी

These are the world's peculiar temples, where no deities are worshiped.शकुनि मंदिर केरल के कोल्लम जिले में स्थित एक मंदिर है जहां महाभारत काल के शकुनि को पूजा जाता है। यहां के लोग पूरी श्रद्धा और आस्था से इनकी पूजा करते हैं। बता दें कि इसी मंदिर के पास दुर्योधन मंदिर स्थित है। अब आप सब दुर्योधन से तो वाकिफ होंगे ही, यह कौरवों के सबसे बड़े भाई थे।