जहां कभी घास हुआ करती थी वहां पनप गए हैं लाखों वृक्ष

Where ever there used to be grass, there were flourished millions of trees
सफलता की कहानी
जहां कभी घास हुआ करती थी वहां पनप गए हैं लाखों वृक्ष
प्रकृति और वन्य जीवन के निकट ले जाने का काम करेगा मनोरंजन पार्क
उज्जैन । उज्जैन के निकट स्थित 250 हेक्टेयर की नौलखी बीड़ में कभी केवल घास हुआ करती थी। वन विभाग द्वारा  2007 से प्रारंभ  की  गई कोशिश कामयाब हुई और यहां आज लाखों वृक्ष पनप गए हैं। घास की जगह घना जंगल विकसित हो गया है। इस संपूर्ण क्षेत्र में से 55 हेक्टर में वन विभाग इको टूरिज्म के तहत मनोरंजन पार्क विकसित कर रहा है, जो आने वाले 6 माह में पूर्ण हो जाएगा।
घांस बीड़ को जंगल में तब्दील करने का काम किया है वन विभाग के रेंजर श्री गयाप्रसाद मिश्रा, फारेस्टर श्री बी.एन.त्रिपाठी और ओमप्रकाश देवतबल की लगन और हेमनत ने। वर्ष 2007 में वन विभाग ने यहां पर व्यापक पैमाने पर पौधारोपण किया। बांस, शिशम, सागौन, आंवला, जामुन आदि के 01 लाख 50 हजार  111 पौधों का रोपण किया गया। विशेष उल्लेख की बात यह है कि वन विभाग यहां पर शत-प्रतिशत पौधों की सुरक्षा कर सका और क्षेत्र को हरियाली की चादर औढ़ा दी।  विभाग की सफलता को देखकर हर कोई चकित है।
मनोरंजन पार्क
55 हेक्टर में तैयार किये जा रहे मनोरंजन पार्क का आकर्षण अभी से लोगों को अपनी ओर खींच ले रहा है। प्रत्येक अवकाश के दिनों में यहां 500 से 1000 प्रकृति प्रेमी भ्रमण करने आ रहे हैं। पार्क में नीलगाय, खरगोश, जंगली बिल्ली, नेवला, सियार जैसे प्राणियों ने अपना ठिकाना बना लिया है वहीं दूसरी और यहां पर पाए जाने वाले पक्षी भी लोगों के आकर्षण का केंद्र बन रहे हैं। इको पर्यटन के तहत विकसित किए गए इस मनोरंजन पार्क में नीलकंठ, गोल्डन ओरियल, कॉपर स्मिथ, रेड बैंडेड बुलबुल, गे फ्रेंकोलिन, टिटहरी, लाफिंग डोव, सिल्वर बिल जंगल बाबलेर, कामन मैना, गोरेया, इंडियन रोबिन, सन बर्ड ब्लैक टैंगो, रोज रिंग, पैराकीट, इंडियन ग्रे हॉर्नबिल पक्षी कलरव करते दिखाई पड़ते हैं
         मनोरंजन पार्क में सांपों की विभिन्न प्रजातियां मौजूद  है। इनमें रेट स्नेक, बफ स्ट्रिप  स्नेक, वुल्फ स्नेक, कॉमन सैंड बोआ, कोबरा, करेत, ट्रिमकेट स्नेक, रसेल वाइपर, किल बेक वाटर स्नेक, कैट स्नेक, कुकरी स्नेक तथा मॉनिटर लिजार्ड पाई जाती है।  मनोरंजन पार्क में भविष्य की योजनाओं में हिरण की  ब्रीडिंग करवाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यहां पर पानी की समस्या को दूर करने के लिए दो तालाबों का निर्माण किया गया है। एक कुआं खुदवाया गया है। साथ ही मनोरंजन पार्क के चारों तरफ 8-8 फीट की फेंसिंग बनाने का प्रावधान भी है। मनोरंजन पार्क में झूले, इंटर प्रिटेशन सेंटर, मैरीगो राउंड, औषधि पार्क भी विकसित हो रहा है ।
   उज्जैन शहर के हर उस नागरिक को जिसने पहले यहां घास बीड देखा है, घना जंगल देख कर आश्चर्य हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CAPTCHA