उज्जैन न्यूज़शिक्षा न्यूज़स्पोर्ट्स न्यूज़

माधव कॉलेज में वार्षिक उत्सव का हुआ शुभारंभ

उज्जैन। माधव कॉलेज में शिक्षा सत्र 2019-2020 के वार्षिक उत्सव का शुभारंभ करते हुए प्रभारी प्राचार्य डॉ. जवाहरलाल बरमैया ने कहा कि माधव महाविद्यालय एक ऐतिहासिक महाविद्यालय है। वार्षिक उत्सव में होने वाली प्रतियोगिताओं से प्रतिभाओं को निखरने, संवरने और प्रस्फुटित होने का अवसर मिलता है। विद्यार्थी प्रतियोगिताओं में श्रेष्ठ प्रदर्शन कर अपने कौशल का स्वरूप दिखाते हैं। प्राचार्य डॉ. बरमैया ने शुभारंभ की घोषणा की। प्रशासनिक अधिकारी डॉ. विक्रम वर्मा ने भी विद्यार्थियों को शुभकामनाएं व्यक्त की। पहली प्रतियोगिता चेयर रेस की हुई जिसमें छात्रों में प्रथम पवन सोलंकी, द्वितीय विकास दखनी, तृतीय विकास गोमे एवं छात्राओं में प्रथम रीना राठौर, द्वितीय खुशबू चंदेल एवं तृतीय पूजा शर्मा रहीं। मेहंदी प्रतियोगिता में प्रथम गुंजन शर्मा, द्वितीय कंचन कुशवाह, तृतीय वर्षा लहड़ोतिया रहीं। स्लो सायकल प्रतियोगिता में प्रथम पवन सोलंकी, द्वितीय महेश विश्वकर्मा एवं तृतीय सोनू मीणा रहे।

स्लो सायकल महिला में प्रथम सलोनी टोके, द्वितीय खूश्बू चंदेल एवं तृतीय आरती प्रजापत रही। माधव कॉलेज के ऐतिहासिक गांधी हॉल में वाद विवाद प्रतियोगिता में विद्यार्थियों ने वर्तमान परिप्रेक्ष्य में क्या संयुक्त परिवार आवश्यक है विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किये। पक्ष और विपक्ष में हुई इस प्रतियोगिता की अध्यक्षता चिन्हित महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सुधा श्रीवास्तव ने की। अतिथि के रूप में छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष अनिल मालवीय एवं सचिव माधुरी खरे उपस्थित थीं। इस प्रतियोगिता में पक्ष में प्रथम दीपक सोनी, द्वितीय दीपक राठौर और तृतीय अक्षय रायकवार रहे।

विपक्ष में प्रथम लोकेश रेकवाल, द्वितीय लक्ष्य उपाध्याय एवं तृतीय रवि मेहता रहे। गांधीवाद की प्रासंगिकता विषय पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता में प्रथम अजय प्रजापत, द्वितीय रीना राठौर एवं तृतीय दीपक सोनी रहे। सलाद प्रतियोगिता में प्रथम एकनाथ चौधरी, द्वितीय रीना राठौर एवं तृतीय विकास गोमे रहे। इन प्रतियोगिताओं का संयोजन डॉ. एमपी वर्मा, डॉ. शारदा शिंदे, डॉ. नीलिमा वर्मा, डॉ. अल्पना उपाध्याय, डॉ. अल्पना दुभाषे एवं डॉ. राजश्री शेठ का था। इस अवसर पर महाविद्यालय के डॉ. आर.ए. नागौरी, डॉ. दिनेश जोशी, डॉ. सुरेश मकवाणा, डॉ. संजीव शर्मा, प्रो. दीपक ठाकर, डॉ. आयशा सिद्दीकी, डॉ. एल.एस. गोरास्या, डॉ. राजाराम गोरास्या आदि उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button