राजनीति न्यूज़
Trending

राहुल गांधी की सभा की जिम्मेदारी राजेन्द्र वशिष्ठ को।

पहली बार कांग्रेस में एकता दिखी।

आपसी फूट से अस्त व्यस्त कांग्रेस में भारत जोड़ो यात्रा ने कई जान फूंक दी है। यह भी लगता है कि कांग्रेसी इस बात को समझ गए है कि सत्ता हासिल करने का यह आखरी मौका है। नही तो आप,सबका सूपड़ा साफ कर ही रही है।

दरअसल आज भोपाल में भारत जोड़ो यात्रा के मद्देनजर एक आवश्यक बैठक कमलनाथ ने बुलाई थी। इस बैठक में यह तय हुआ कि मध्यप्रदेश में एकमात्र सभा जो उज्जैन में होने वाली है,उसकी जिम्मेदारी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजेन्द्र वशिष्ठ को दी गईं। इस बात की घोषणा बाकायदा स्वयं कमलनाथ ने की।

यह भी दिलचस्प है कि कमलनाथ जी की इस घोषणा का स्वागत बटुक शंकर जोशी और महेश परमार ने भी किया।

पिछले दिनों में राजेंद्र वशिष्ठ ने दक्षिण की राजनीति में सदबुद्धि यज्ञ के जरिये मंत्री मोहन यादव को जो चुनौती दी है,उसने कांग्रेस ने नई जान फूंक दी है।

वशिष्ठ ने उज्जैन के छात्र नेताओं को भी एक मंच पर लाकर वह असम्भव कार्य सम्भव कर दिखाया है,जो पहले कभी नही देखा गया।

कुल मिलाकर उज्जैन कांग्रेस ने एकता के दर्शन हो रहे है। भारत जोड़ो यात्रा से कांग्रेसी तो जुड़ ही रहे है। बाकी 1 दिसम्बर को सामाजिक न्याय परिसर में राहुल गांधी की सभा बहुत महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

Back to top button