उज्जैन न्यूज़क्राइम न्यूज़

सूदखोर ने तीन दर्जन गांवों के ग्रामीणों को लगाया लाखों का चूना- गहने-आभूषण खा गया, नकली ज्वेलरी पकड़ाई, धोखाधड़ी कर ब्याज सहित मूल भी हजम कर गया

उज्जैन। जिले के माकड़ौन थाना अंतर्गत ग्राम ढाबला हर्दू में ज्वेलरी का काम करने वाला ग्रामीणों को लाखों का चूना लगाकर फरार हो गया है। ग्रामीणों की लाखों की ज्वेलरी, नकदी एवं गिरवी रखी गई सोने-चांदी की ज्वेलरी को नकली बनाकर दे गया है। ग्रामीणों ने पुलिस कप्तान को मामले से अवगत करवाया है। माकड़ौन थाना पुलिस ग्रामीणों के आवेदन पर जांच में लगी है।


गुरुवार को ढाबला हर्दू सहित आसपास के गांव के आधा दर्जन ग्रामीण पुलिस अधीक्षक के पास थे। ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि ढाबला हर्दू निवासी जितेश पिता अमृतलाल सर्राफ गांव में सूदखोरी का धंधा पिछले कई वर्षों से करता था। ग्रामीण अपनी आवश्यकतानुसार उसके यहां गहने गिरवी रखकर नकद राशि ब्याज पर लेते थे। ग्रामीण अनोखीलाल पिता दरयावजी ग्राम झलारी के अनुसार उन्होंने जितेश को 750 ग्राम चांदी की कड़ी गिरवी रखकर छ: माह के लिए 15 हजार रुपए ब्याज पर लिए थे।

अवधि पूर्ण होने के पूर्व ही जितेश को 15 हजार रुपए मय ब्याज के वापस किए गए। जितेश ने गिरवी रखी गई गहने वापस नहीं किए और उसके परिवार ने गालियां देते हुए जान से मारने की धमकी दी। ग्राम कलापिपल्या के नागूसिंह सौंधिया के अनुसार उन्होंने आवश्यकता होने पर 2 किलो चांदी की कड़ी गिरवी रखते हुए 50 हजार रुपए 4 माह की अवधि के लिए ब्याज पर लिए थे।

ब्याज अवधि पूर्ण होने के पहले ही नागूसिंह ने जितेश को ब्याज सहित पूरी राशि उसकी दुकान पर जाकर अदा कर दी। जब जितेश से 2 किलो चांदी की रकम की वापसी की मांग की गई तो जितेश ने अपनी पत्नी सोनूबाई के साथ मिलकर बलात्कार के झूठे केस में फँसाने की धमकी देते हुए उल्टे पांव लौटा दिया। ग्रामीणों के अनुसार जितेश के पिता अमृतलाल, उसका भाई किशोर, राकेश भी गहने मांगने जाने पर गाली-गलौज करते हैं और जान से मारने की धमकी देते हुए झूठे मामलों में फँसाने की साजिश पर आतुर है।  

पूर्व में इन्होंने कुछ ग्रामीणों के साथ इस तरह के षड़यंत्र को अंजाम दिया है। इसी तरह की धोखाधड़ी की शिकायत जितेश एवं उसके परिवार के विरुद्ध ढाबला निवासी महिला कमलाबाई, झलारा निवासी देवीसिंह, लाम्बी निवासी कमलसिंह, बनेसिंह, पप्पूसिंह आदि ने भी जनसुनवाई के दौरान पूर्व में की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button